November 21, 2018
जागरूक रहकर परिजनों को दुर्गुणों से बचाएं

जागरूक रहकर परिजनों को दुर्गुणों से बचाएं

इंद्रियों का विपरीत दिशा में गतिशील होना वासना कहलाता है। वासना को इधर-उधर ले जाने वाले साधन को दुर्गुण कहते हैं और दुर्गुण अधार्मिक गतिविधियों में […]
November 20, 2018
खुश रहने और खुशी देने केलिए थोड़ी दूरी भी आवश्यक

खुश रहने और खुशी देने केलिए थोड़ी दूरी भी आवश्यक

जिस प्रकार डरपोक को हर जगह भय दिखता है, पूर्वाग्रही को उल्टा ही नज़र आता है, कामी को देह के अलावा कुछ नहीं सूझता..ऐसे ही अधिक […]
November 17, 2018
दुख में सुख खोज लेता है आत्मनिर्भर व्यक्ति

दुख में सुख खोज लेता है आत्मनिर्भर व्यक्ति

जीवन दुख नहीं, दुख में सुख ढूंढ़ने का नाम है। कोई कितना ही समर्थ हो, दुख को आने से नहीं रोक सकता और सुख को ला […]
X