120.00


यह प्रबंधन का युग है. जीवन का कोई भी ऐसा क्षेत्र नहीं छूटा होगा जहाँ लोग प्रबंधन के प्रयोग नहीं कर रहे हों. प्रबंधन का सीधा अर्थ होता है व्यक्तियों, स्थितियों और स्वयं का तालमेल बैठाकर सदुपयोग करना। आधुनिक प्रबंधन के पास कई तकनीक और विधियां हैं इन तीनो के तालमेल बैठाने की, लेकिन भारत की ऋषि परंपरा बड़ी समृद्ध रही है. हमारे ऋषि-मुनियों और शास्त्रों ने अपनी जीवनशैली और विचारों से जीवन जीने के कुछ ऐसे सूत्र दिए हैं जो आज जीवन प्रबंधन बन जाते हैं.

इस पुस्तक में जीवन प्रबंधन के सात सूत्रों का वर्णन है. यह सूत्र यदि ठीक से समझ लिए जाएं तो आधुनिक प्रबंधन और अध्यात्म की दृष्टी से प्रबंधन का मणिकांचन योग तैयार हो जायेगा।

Category: .
X